खबरेंडॉमेस्टिक

सीएयू भगवान भरोसे हाथ पर हाथ रखकर बैठी है !

0

लगभग 3 महीने से कोरोना महामारी का दंश झेल रही दुनिया से अब पॉजिटिव खबरें आने लगी है । कोविड-19 वायरस से ग्रस्त नए मरीजों की तुलना में रिकवरी रेट बढ़ रहा है । कई देशों से तो इस वायरस का नामोनिशान तक मिट चुका है या खत्म होने की कगार पर है ।

कोरोना काल में क्रिकेट खिलाड़ियों का बर्ताव होगा रोचक

एक समय पूरी दुनिया मानो ठहर गयी थी , क्रिकेट जगत का भी यही हाल था , लेकिन अब कई देशों में क्रिकेट हो रहा है और इंटरनेशनल लेवल पर जल्द ही क्रिकेट व क्रिकेटर वापसी करने जा रहे है ।

भारत की बात करे तो सरकार ने क्रिकेटर्स को गाइडलाइंस के साथ अभ्यास करने व क्रिकेट खेलने की अनुमति दी हुई है ।

ऐसे में कई राज्य इकाइयों ने आगामी घरेलू सत्र के लिए तैयारियां भी शुरू कर दी है । केरला क्रिकेट एसोसिएशन हो या बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन वहां पर घरेलू सत्र की तैयारियों का शंखनाद हो चुका है ।

लेकिन कुछ सुस्त एसोसिएशन ऐसी भी है जो हाथ पर हाथ रखकर बैठी है । नई नवेली क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड का भी यही हाल है । अभी ना तो वहां आगामी सीजन को लेकर नोटिफिकेशन जारी किया गया है ना ही खिलाड़ियों को प्रैक्टिस को लेकर ही गाइडलाइंस जारी किए गए है ।

लोकल स्तर के टूर्नामेंट होंगे या नही , कोच , ट्रेनर , प्रोफेशनल प्लेयर्स व अन्य स्पोर्टिंग स्टाफ़ कब नियुक्त होंगे । क्योंकि जैसे जैसे समय निकलता जाएगा वैसे वैसे ये सभी प्रोफेशनल्स दूसरी एसोसिएशन से जुड़ जायेगीं । और फिर आखिर समय पर वही बचे कूचे ऑपशन्स बचेंगे।

पिछले सीजन में सीनियर टीम की परफॉर्मेंस किसी से छुपाये नही छुपी है । उसे देखते हुए , कोच , वीडीयो एनालिस्ट , ट्रेनर व प्रो प्लेयर अच्छे दर्जे के होंगे तभी एक मजबूत टीम तैयार हो पाएगी । लेकिन लगता है सीएयू भगवान भरोसे हाथ पर हाथ रखकर बैठी है । वरना इस समय प्रोफेशनल्स की हायरिंग से लेकर आगे की रणनीति पर काम किया जा सकता है ।

कोरोना काल में क्रिकेट खिलाड़ियों का बर्ताव होगा रोचक

Previous article

सीएयू सचिव महिम वर्मा Exclusive, वसीम जाफ़र बने हैड कोच

Next article

You may also like