खबरेंडॉमेस्टिक

RanjiTrophy : जे एन्ड के बनाम सीएयू, गेंदबाजो ने कमाया – बल्लेबाजों ने डुबाया।

0

सीएयू के बैनर तले पहली बार रणजी खेलने उतरी टीम सीएयू ने पहले ही मैच में किया निराश, देहरादून की अभिमन्यु क्रिकेट ग्राउंड में टीम जम्मू-कश्मीर ने टीम उत्तराखंड को 253 रनों के बड़े अंतर से हराया ।

मैच समरी :- टॉस सीएयू के कप्तान उन्मुक्त चंद ने जीता और जम्मू-कश्मीर की टीम को पहले बल्लेबाजी करने के लिए बुलाया । कप्तान का ये फ़ैसला सही साबित हुआ , उत्तराखंड के गेंदबाजो ने “जे एन्ड के” को 182 रनों पर समेट दिया । कप्तान परवेज़ रसूल के बगैर खेलने उतरी जेएंडके की तरफ से शुभम खजुरिया ने 47 , सूर्यांश रैना ने 35 रनों की पारी खेली । इसके अलावा जेएंडके का कोई भी बल्लेबाज कुछ ख़ास नही कर पाया ।

उत्तराखंड की तरफ से सीनियर बॉलर राहिल शाह ने 3 विकेट , सन्नी राणा ने 2 विकेट चटकाए । धनराज शर्मा , नेगी , चमोली और कप्तान उन्मुक्त ने 1-1 विकेट अपने नाम किया । लेकिन फिर बल्लेबाजी करने आई  टीम उत्तराखंड में “तू चल मैं आया”वाली होड़ लग गयी ।

आलम ये रहा कि तमन्य श्रीवास्तव ( 17 ) और दिकांशु नेगी ( 24 ) के अलावा कोई भी बल्लेबाज दहाई का अंक नही छू सका , और टीम 84 पर आलआउट हो गयी । जेएंडके की तरफ से मो. मुदासिर ने 5 व राम दयाल ने 4 विकेट झटके। दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी जेएंडके ने अपनी रणनीति में बदलाव किया और तेजी से रन बनाए ।

विकेट कीपर फैज़ल राशिद ( 73* ) , अब्दुल समद  ( 60 ) व रामदयाल ( 41 ) के बदौलत टीम का अंतिम स्कोर 304 / 10 रहा । राहिल शाह ने एक बार फिर 5 विकेट चटकाए , धनराज शर्मा ने 2 , सन्नी राणा , चमोली और नेगी ने 1-1 विकेट अपने नाम किया ।

Irfan Pathan

Irfan Pathan

चौथी पारी में बड़े लक्ष्य का पीछा करने उतरी सीएयू का हाल पहली पारी जैसा ही रहा , पूरी टीम एक बार फिर 149 रनों पर ऑल आउट हो गयी । दिकांशु नेगी ( 55* ) के अलावा कोई भी बल्लेबाज बड़ा स्कोर नही कर पाया । जेएंडके की तरफ से रामदयाल ने 5 , उमर नज़ीर व मो. मुदासिर ने 2-2 विकेट अपने नाम किये ।

पॉजीटिव :-

  • राहिल शाह (8 विकेट ) समेत सभी गेंदबाजो का अच्छा प्रदर्शन ।
  •  दिकांशु नेगी का बेट-बॉल से प्रदर्श

नेगेटिव :-

  • बल्लेबाजो का निराशाजनक प्रदर्शन
  • इंजरी से वापसी कर रहे कप्तान उन्मुक्त का दोनो इनिंग्स में सस्ते में आउट होना ,
  • तन्मय श्रीवास्त , करनवीर कौशल जैसे सीनियर बल्लेबाजों का स्कोर ना करना ।
  • खराब फील्डिंग

उन्मुक्त चंद भारतीय क्रिकेट का वो सितारा जो जितने का हकदार था उतना नही मिला ।

Previous article

“अंशुल गुप्ता” घरेलू क्रिकेट का ऐसा नाम जो लगातार अपने आपको साबित कर रहा है ।

Next article

You may also like